112
धर्मी व्यक्ति के लक्षण
 
यहोवा की स्तुति करो!
क्या ही धन्य है वह पुरुष जो यहोवा का भय मानता है,
और उसकी आज्ञाओं से अति प्रसन्‍न रहता है!
उसका वंश पृथ्वी पर पराक्रमी होगा*;
सीधे लोगों की सन्तान आशीष पाएगी।
उसके घर में धन सम्पत्ति रहती है;
और उसका धर्म सदा बना रहेगा।
सीधे लोगों के लिये अंधकार के बीच में ज्योति उदय होती है;
वह अनुग्रहकारी, दयावन्त और धर्मी होता है।
जो व्यक्ति अनुग्रह करता और उधार देता है,
और ईमानदारी के साथ अपने काम करता है, उसका कल्याण होता है।
वह तो सदा तक अटल रहेगा;
धर्मी का स्मरण सदा तक बना रहेगा।
वह बुरे समाचार से नहीं डरता;
उसका हृदय यहोवा पर भरोसा रखने से स्थिर रहता है।
उसका हृदय सम्भला हुआ है, इसलिए वह न डरेगा,
वरन् अपने शत्रुओं पर दृष्टि करके सन्तुष्ट होगा।
उसने उदारता से दरिद्रों को दान दिया*,
उसका धर्म सदा बना रहेगा;
और उसका सींग आदर के साथ ऊँचा किया जाएगा। (2 कुरि. 9:9)
10 दुष्ट इसे देखकर कुढ़ेगा;
वह दाँत पीस-पीसकर गल जाएगा;
दुष्टों की लालसा पूरी न होगी। (प्रेरि. 7:54)