123
परमेश्‍वर की दया के लिये प्रार्थना
यात्रा का गीत
 
हे स्वर्ग में विराजमान
मैं अपनी आँखें तेरी ओर उठाता हूँ!
देख, जैसे दासों की आँखें अपने स्वामियों के हाथ की ओर,
और जैसे दासियों की आँखें अपनी स्वामिनी के हाथ की ओर लगी रहती है,
वैसे ही हमारी आँखें हमारे परमेश्‍वर यहोवा की ओर उस समय तक लगी रहेंगी,
जब तक वह हम पर दया न करे।
हम पर दया कर, हे यहोवा, हम पर कृपा कर,
क्योंकि हम अपमान से बहुत ही भर गए हैं।
हमारा जीव सुखी लोगों के उपहास से,
और अहंकारियों के अपमान से* बहुत ही भर गया है।