134
स्तुति करने का आह्वान
यात्रा का गीत
 
हे यहोवा के सब सेवकों, सुनो,
तुम जो रात-रात को यहोवा के भवन में खड़े रहते हो*,
यहोवा को धन्य कहो। (प्रका. 19:5)
अपने हाथ पवित्रस्‍थान में उठाकर,
यहोवा को धन्य कहो।
यहोवा जो आकाश और पृथ्वी का कर्ता है,
वह सिय्योन से तुझे आशीष देवे।