149
न्याय और उद्धार के लिए परमेश्‍वर की स्तुति
 
यहोवा की स्तुति करो!
यहोवा के लिये नया गीत गाओ,
भक्तों की सभा में उसकी स्तुति गाओ! (प्रका. 5:9 प्रका. 14:3)
इस्राएल अपने कर्ता के कारण आनन्दित हो,
सिय्योन के निवासी अपने राजा के कारण मगन हों!
वे नाचते हुए उसके नाम की स्तुति करें,
और डफ और वीणा बजाते हुए उसका भजन गाएँ!
क्योंकि यहोवा अपनी प्रजा से प्रसन्‍न रहता है;
वह नम्र लोगों का उद्धार करके उन्हें शोभायमान करेगा*।
भक्त लोग महिमा के कारण प्रफुल्लित हों;
और अपने बिछौनों पर भी पड़े-पड़े जयजयकार करें।
उनके कण्ठ से परमेश्‍वर की प्रशंसा हो,
और उनके हाथों में दोधारी तलवारें रहें,
कि वे जाति-जाति से पलटा ले सके;
और राज्य-राज्य के लोगों को ताड़ना दें,
और उनके राजाओं को जंजीरों से,
और उनके प्रतिष्ठित पुरुषों को लोहे की बेड़ियों से जकड़ रखें*,
और उनको ठहराया हुआ दण्ड देंगे!
उसके सब भक्तों की ऐसी ही प्रतिष्ठा होगी।
यहोवा की स्तुति करो।