82
सच्चे न्याय के लिए दलील
आसाप का भजन
 
परमेश्‍वर दिव्य सभा में खड़ा है:
वह ईश्वरों के बीच में न्याय करता है।
“तुम लोग कब तक टेढ़ा न्याय करते
और दुष्टों का पक्ष लेते रहोगे*? (सेला)
कंगाल और अनाथों का न्याय चुकाओ,
दीन-दरिद्र का विचार धर्म से करो।
कंगाल और निर्धन को बचा लो;
दुष्टों के हाथ से उन्हें छुड़ाओ।”
वे न तो कुछ समझते और न कुछ जानते हैं,
परन्तु अंधेरे में चलते-फिरते रहते हैं*;
पृथ्वी की पूरी नींव हिल जाती है।
मैंने कहा था “तुम ईश्वर हो,
और सब के सब परमप्रधान के पुत्र हो; (यूह. 10:34)
तो भी तुम मनुष्यों के समान मरोगे,
और किसी प्रधान के समान गिर जाओगे।”
हे परमेश्‍वर उठ, पृथ्वी का न्याय कर;
क्योंकि तू ही सब जातियों को अपने भाग में लेगा!