129
सिय्योन के शत्रुओं पर विजय का गीत
यात्रा का गीत
 
इस्राएल अब यह कहे,
“मेरे बचपन से लोग मुझे बार-बार क्लेश देते आए हैं,
मेरे बचपन से वे मुझ को बार-बार क्लेश देते तो आए हैं,
परन्तु मुझ पर प्रबल नहीं हुए।
हलवाहों ने मेरी पीठ के ऊपर हल चलाया*,
और लम्बी-लम्बी रेखाएं की।”
यहोवा धर्मी है;
उसने दुष्टों के फंदों को काट डाला है;
जितने सिय्योन से बैर रखते हैं,
वे सब लज्जित हो, और पराजित होकर पीछे हट जाए!
वे छत पर की घास के समान हों,
जो बढ़ने से पहले सूख जाती है;
जिससे कोई लवनेवाला अपनी मुट्ठी नहीं भरता*,
न पूलियों का कोई बाँधनेवाला अपनी अँकवार भर पाता है,
और न आने-जाने वाले यह कहते हैं,
“यहोवा की आशीष तुम पर होवे!
हम तुम को यहोवा के नाम से आशीर्वाद देते हैं!”